Loading...

Search This Blog

Loading...

Thursday, July 1, 2010

जीवन अपने स्वरूप में एक गठन-पूर्ण परमाणु

जीवन अपने स्वरूप में एक गठन-पूर्ण परमाणु है। इसके पाँच स्तर हैं - मन, वृत्ति, चित्त, बुद्धि, और आत्मा। जीवन इन पाँचों का अविभाज्य स्वरूप है। भ्रमित-मनुष्य में जीवन की ४.५ क्रियाएं ही क्रियाशील रहती हैं, शेष क्रियाएं सुप्त रहती हैं। ४.५ क्रियाएं जो क्रियाशील रहती हैं - उसी से मनुष्य में कल्पनाशीलता प्रकट है। आशा, विचार, और इच्छा का संयुक्त स्वरूप कल्पनाशीलता है। भ्रमित-जीवन में विचार (वृत्ति) प्रिय-हित-लाभ दृष्टियों से कार्य करता है। भ्रमित-जीवन में इच्छा (चित्त) में चित्रण क्रियाशील रहता है, चिंतन सुप्त रहता है।

चिंतन भाग जीवन में तब तक सुप्त रहता है जब तक अनुभव-प्रमाण आत्मा में न हो! अनुभव-प्रमाण के बिना चिंतन की "खुराक" ही नहीं है।

वृत्ति में जब हम प्रिय-हित-लाभ दृष्टियों से ही तुलन करते हैं तो वह चिंतन में जाता नहीं है। प्रिय-हित-लाभ पूर्वक तुलन करके हम शरीर-मूलक चित्रण तक ही पहुँचते हैं। शरीर-मूलक बात को चित्रण से आगे बढाया नहीं जा सकता। उसमें चिंतन की कोई वस्तु नहीं है। उसमें केवल संवेदना है, और संवेदना को राजी रखने की प्रवृत्ति है। इसी को "संवेदनशीलता" कहा है। इसको "वेदना" इसलिए कहा - क्योंकि संवेदनाओं में सुख "भासता" है ("सुख जैसा लगता है") पर उसकी निरंतरता नहीं बनती। यह "कष्ट" भ्रमित-जीवन में बना रहता है।

भामित-मनुष्य का यह "कष्ट" उसके जीवन में अतृप्ति के कारण है। भ्रमित-जीवन में अतृप्ति की रेखा चिंतन और चित्रण के बीच बनी है। भ्रमित-जीवन जब जीता है, तो उसको समस्याएं ही समस्याएं आती हैं। भ्रमित-जीवन को जीने में समाधान नहीं मिलता। समस्याओं के बिगाड़ का संकेत चित्रण में आता ही है। वही मानव के लिए "संकट" है। जैसे- धरती बीमार हो गयी, बिगाड़ का यह संकेत मनुष्य के चित्रण में आता ही है। इस संकट से मुक्ति और भ्रमित कार्य करने से तो नहीं मिल सकती।

इस संकट से मुक्ति तभी सम्भव है जब मनुष्य ४.५ क्रिया के स्थान पर १० क्रिया पूर्वक जिए। उसके लिए ही मध्यस्थ-दर्शन सह-अस्तित्व-वाद के अध्ययन का प्रस्ताव है।

- बाबा श्री नागराज शर्मा के साथ संवाद पर आधारित (अगस्त २००६, अमरकंटक)
जीवन अपने स्वरूप में एक गठन-पूर्ण परमाणु है. गठनशील परमाणु ही विकसित हो कर गठन-पूर्ण बनता है. जीवन चैतन्य ईकाई है, जो भौतिक-रासायनिक शरीर को जीवंत बनाता है. जीवन दस अविभाज्य क्रियाओं का संयुक्त स्वरूप है - जिसमें से ५ स्थिति में और ५ गति में हैं. जीवन में ५ स्तर होते हैं - मन, वृत्ति, चित्त, बुद्धि, और आत्मा. मन आस्वादन (स्थिति) और चयन (गति) को प्रकाशित करता है. मन ही मेधस पर जीवन के संकेतों को प्रसारित करता है. मन की शक्ति को "आशा" कहते हैं. वृत्ति तुलन (स्थिति) और विश्लेषण (गति) को प्रकाशित करता है. वृत्ति की शक्ति को "विचार" कहते हैं. भ्रमित जीवन में वृत्ति में तुलन प्रिय-हित-लाभ दृष्टियों के आधार पर होता है. न्याय-धर्म-सत्य की तुलन-दृष्टियाँ सुप्त रहती हैं. प्रिय-हित-लाभ शरीर-मूलक दृष्टियाँ है. न्याय-धर्म-सत्य दृष्टियाँ अनुभव-मूलक विधि से ही जागृत होती हैं. चित्त चिंतन (स्थिति) और चित्रण (गति) को प्रकाशित करता है. चित्त की शक्ति को "इच्छा" कहते हैं. भ्रमित-जीवन में चिंतन क्रियाशील नहीं रहता है तथा चित्रण भी शरीर-मूलक होता है. इस तरह भ्रमित-जीवन में मन की दो क्रियाएं, वृत्ति की १.५ क्रियाएं (आधा तुलन), और चित्त की एक क्रिया क्रियाशील रहती है. यही ४.५ क्रिया हैं. यही आशा, विचार, इच्छा हैं. आशा, विचार, और इच्छा के संयुक्त स्वरूप को ही कल्पनाशीलता कहते हैं. भ्रमितमनुष्य कल्पनाशीलता पूर्वक कर्म-स्वतंत्रता को अपने जीने में प्रकाशित करता है. भ्रमित-जीवन की बुद्धि में बोध नहीं रहता, लेकिन वह बोध की अपेक्षा में रहती है. लेकिन शरीर-मूलक कल्पनाशीलता द्वारा किये गए कार्यों और उनके फल-परिणामो से होने वाले चित्रणों को बुद्धि स्वीकारती नहीं है. यह "असहमति" या "अतृप्ति" ही मनुष्य में मूल पीडा है. इस पीडा को दूर करने के लिए मनुष्य और कल्पनाशीलता का प्रयोग करता है, लेकिन उससे कोई समाधान मिलता नहीं है. केवल आशा-विचार-इच्छा के योग में काम करने से समस्या ही मनुष्य पैदा कर सकता है. इसी कल्पनाशीलता को अस्तित्व के अध्ययन में लगाने से जीवन में सुप्त क्रियाएं जागृत हो सकती हैं. यही मध्यस्थ-दर्शन का प्रस्ताव है. सुप्त क्रियाएं हैं: आत्मा में अनुभव (स्थिति) और प्रमाण (गति). आत्मा की शक्ति को प्रामाणिकता कहते हैं. यह अध्ययन पूर्वक जागृत होती है. भ्रमित-जीवन में ये क्रियाएं सुप्त रहती हैं. जागृत होने पर यही जीवन में तृप्ति का अक्षय स्त्रोत है. बुद्धि में बोध (स्थिति) और संकल्प (गति). बुद्धि की शक्ति को ऋतंभरा कहते हैं. भ्रमित जीवन में ये क्रियाएं सुप्त रहती हैं, और चित्त में होने वाली क्रियाओं का दृष्टा बनी रहती हैं. जागृत जीवन में यही शक्ति स्वयं में सच्चाई के प्रति अटूट विश्वास का स्त्रोत है. अनुभव मूलक विधि से चित्त में चिंतन होता है. यह न्याय, धर्म, और सत्य को जीने में प्रमाणित करने के अर्थ में होता है. यही चिंतन अनुभव-मूलक चित्रण का आधार हो जाता है. यही चिंतन वृत्ति में न्याय-धर्म-सत्य तुलन क्रियाओं को क्रियाशील बनाता है. इस तरह अनुभव-मूलक विधि से जीवन में १० क्रियाएं क्रियाशील हो जाती हैं. यह सार-संक्षेप में कही गयी बात है.

3 comments:

  1. चित्रण और बोध
    (अनुभव से पहले) चित्त में जो चित्रण होता है - वह अनुभव मूलक विधि से प्रमाणित नहीं होता। संवेदना के रुप में ही व्यक्त होता है।

    अध्ययन पूर्वक बुद्धि में जो बोध होता है - वह अनुभव मूलक विधि से प्रमाण प्रस्तुत होता है।

    चित्त में साक्षात्कार होने के बाद बुद्धि में बोध ही होता है। बोध होने के बाद अनुभव-मूलक विधि से पुनः प्रमाण-बोध बुद्धि में होता है। प्रमाण-बोध का संकल्प होता है। प्रमाणित करने के लिए संकल्प होता है। संकल्प होने से उसका चिंतन होता है - चित्त में। चिंतन के बा उसका चित्रण होता है। वह चित्रण द्वारा हम आगे प्रकाशित करना शुरू कर देते हैं।

    अध्ययन-विधि से सीधा साक्षात्कार-बोध होता है - चित्रण नहीं होता। तुलन से सीधे साक्षात्कार, साक्षात्कार से सीधा बोध, उसके बाद अनुभव, और फिर अनुभव का परावर्तन बुद्धि, चित्त, वृत्ति, और मन पर।

    मनुष्य की कल्पनाशीलता का तृप्ति बिन्दु सह-अस्तित्व में ही है। कल्पनाशीलता की रौशनी में हमें साक्षात्कार-बोध हो गया। अनुभव की रौशनी बना ही रहता है। फलस्वरूप अनुभव की रौशनी में कल्पनाशीलता विलय हो जाती है। अनुभव की रौशनी प्रभावी हो जाती है।

    - श्री नागराज शर्मा के साथ संवाद (अगस्त २००६ में) पर आधारित

    ReplyDelete
  2. न्याय धर्म सत्य
    न्याय-धर्म-सत्य पूर्वक तुलन करने की बात वृत्ति में रखा हुआ है। उससे संबंधित शब्द हम सुनते हैं। शब्द से संबंधित वस्तु वहाँ नहीं रहा। शरीर-मूलक विधि से यह वस्तु वृत्ति में आता नहीं है। वृत्ति में सह-अस्तित्व 'होने' के रुप में शब्द से स्वीकार हो जाता है। न्याय-धर्म-सत्य को 'रहने' के रुप में पहचानना शेष रहता है। 'शब्द' से इतना उपकार हुआ - कि न्याय-धर्म-सत्य होने के रुप में स्वीकार हो गया। जब कार्य-रुप में गए तो शब्द पर्याप्त नहीं हुआ। शब्द से जो सह-अस्तित्व इंगित है - वह क्या है? इस जगह में हम पहुँचते हैं। यह होने पर सह-अस्तित्व चित्त में ही साक्षात्कार होता है - चिंतन क्षेत्र में। साक्षात्कार होने पर बोध होता ही है। बोध होने के बाद प्रमाण-बोध बुद्धि में पुनः होता है। अनुभव-प्रमाण बोध होने के बाद बुद्धि चिंतन के लिए परावर्तित होती ही है। फलस्वरूप उसके अनुरूप चित्रण होता है। ऐसा चित्रण होने से सामने वाले व्यक्ति को बोध करने के लिए वस्तु मिलने लगी।

    संकल्प प्रमाणित होने का गवाही है।
    चिंतन चित्रण का प्रष्ठ्भूमि है।

    संकल्प प्रमाणित होने के लिए पुडिया है! उसके लिए चिंतन एक आवश्यक प्रक्रिया है। ताकि वृत्ति तृप्त हो सके - कि यही न्याय है! यही धर्म है! यही सत्य है! यह होने कि लिए अनुभव आवश्यक रहा।

    इस तरह अनुभव मूलक विधि से सत्य तुलन में घंटी बजाने लगा! धर्म घंटी बजाने लगा! न्याय घंटी बजाने लगा! फलस्वरूप संवेदना से जो इन्फोर्मेशन मिली वह इसमें नियंत्रित हो गयी। अपने आप! इसमें कोई बल, पैसा, या रूलिंग लगाने की जरूरत नहीं है। स्वाभाविक रुप में यह हो जाता है। इस प्रकार विचार में न्याय-धर्म-सत्य समाहित हो जाता है।

    इन विचारों के आधार पर मन में मूल्य जो स्पष्ट हुए - उनका आस्वादन मन में हुआ। मन में हुए इस आस्वादन के अनुसार चयन करने लगे तो हम जीने में प्रमाणित होने लगे! प्रमाणित करने के लिए एक तरफ बुद्धि में संकल्प, और दूसरी तरफ मन में चयन। ये दोनों मिलकर प्रमाण परंपरा बन गयी।

    शिक्षा विधि से अध्ययन
    अध्ययन विधि से बोध
    बोध विधि से अनुभव
    अनुभव विधि से प्रमाण
    प्रमाण विधि से प्रमाण-बोध का संकल्प
    प्रमाण-बोध के संकल्प से चिंतन और चित्रण
    चिंतन और चित्रण से तुलन और विश्लेषण
    तुलन और विश्लेषण के आधार पर मूल्यों का आस्वादन - और उसी के लिए चयन

    - श्री नागराज शर्मा के साथ संवाद पर आधारित ( अगस्त २००६, अमरकंटक)

    ReplyDelete
  3. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete